सार के लिए आमंत्रण

किसी भी देश के औद्योगिक एवं आर्थिक विकास में नवाचार (इनोवेशन) की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। वर्ष 2009 में, बोस्टन कंसल्टिंग ग्रुप, नेशनल एसोसिएशन ऑफ़ मैन्युफैक्चरर्स एवं मैन्युफैक्चरिंग इंस्टिट्यूट ने संयुक्त रूप से एक अंतरराष्ट्रीय नवाचार सूची बनाई, जो किसी देश में नवाचार का मापन करती है। भारत बड़े देशों के बीच 15वें और छोटे-बड़े देशों के बीच 46वें स्थान पर है। अध्ययन से पता चला कि भारत के पिछड़े पायेदान पर आने के मुख्य कारणों में से एक- विज्ञान एवं तकनिकी से सम्बन्धित माध्यमिक और उच्चतर शिक्षा प्रणाली का भारतीय भाषाओं में नहीं होना है। आंग्ल भाषा के प्रयोग ने विज्ञान, गणित आदि सम्बंधित विषयों को किताबी बना दिया। इससे विद्यार्थियों में इन विषयों को समझने के स्थान पर रटने का प्रचलन बढ़ गया और इसलिए ही वे व्यावहारिक रूप से विज्ञान और तकनीकी का उपयोग नहीं कर पाते । स्वर्गीय प्रो. राम दास चौधरी को इस समस्या का पूर्वाभास था। अतः उन्होंने अपने स्तर पर इस समस्या पर कार्य करते हुए वर्ष 2002 में विज्ञान के क्षेत्र में अनुसंधान की एक हिन्दी पत्रिका 'VIGYAN PRAKASH’ (विज्ञान प्रकाश) की स्थापना की। उनके इन प्रयासों की श्रंखला को जारी रखते हुए राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान कुरुक्षेत्र, डॉ. ओम विकास जी के दिशा निर्देशन में एक सम्मेलन आयोजित करवाने जा रहा है| यह शोधकर्ताओं की वैज्ञानिक और तकनीकी खोजों को हिंदी माध्यम में संचार करने के लिए मंच प्रदान करेगा|

प्रस्तुत करने हेतु शोध पत्र को हिंदी तथा आंग्ल भाषा दोनों में भेजें जिसमें केवल शीर्षक, सार, विषय बोधक शब्द-पद (keywords) तथा संदर्भ हों। सार की न्यूनतम शब्द सीमा 150 शब्द है और अधिकतम 200 शब्द है। स्वीकार किए गए सार संगोष्ठी की कार्यवाही में प्रकाशित किये जायेंगे। उनमें से चुनिंदा सार (पूर्ण लेख के साथ) विज्ञान प्रकाश, हिंदी जर्नल विज्ञान अनुसंधान में प्रकाशन के लिए मांगे जा सकते हैं। यह जर्नल, लोक विज्ञान परिषद् (भारत) तथा विश्व हिंदी न्यास, न्यूयार्क (यूएसए), आईएसएसएन: 1549-523-X द्वारा संयुक्त रूप से प्रकाशित किया जाता है।


प्रस्तुत करने के लिए रुचि के विषय निम्नलिखित हैं, लेकिन यह इन्ही क्षेत्रों तक सीमित नहीं है:

    • गणित
    • विज्ञान (भौतिकी, रसायन एवं जीव-विज्ञान)
    • अर्थशास्त्र
    • प्रबंधन
    • अभियांत्रिकी
    • चिकित्सा
    • नवाचार / नवसृजन (जुगाड़)
  
पुरस्कार अनुभाग :-  पांच सर्वश्रेष्ठ सार  पुरस्कार | 

अधिक जानकारी एवं सार भेजने के लिए ई-मेल conference2017@vigyanprakash.org करें|